Wednesday, August 1, 2012

शुक्रिया..

शुक्र है कि
साथ नहीं हो..

ज़िन्दा तो हूँ
जुस्तज़ू,
और
इंतज़ार में.

मर ही न जाता
ख़ुशी से
जो मिल गए होते.